Month: December 2020

Hindi Poem – Bachpan

बचपन वो बचपन भी क्या जमाना था….खुशियों से भरा खजाना था…बारिश में वो कागज़ की कश्ती….खेलने की मस्ती…और ये दिल भी तो आवारा था…मम्मी की गोद,पापा का कंधा…मस्त, बिंदास लाइफ…ना सुबह की खबर,ना शाम का ठिकाना…स्कूल से थक – हार कर आना…फिर भी दोस्तो के संग खेलने जाना था…ये मन भी तो बिना लगाम के …

Hindi Poem – Bachpan Read More »

Hindi Poem – Kash Zindagi Sachmuch Kitab Hoti

काश ज़िन्दगी सचमुच किताब होती _काश, ज़िन्दगी सचमुच किताब होती…काश, मै पढ़ सकती आगे क्या होगा?क्या मुझे पाना है,क्या खोना है…कब खुशियां मिलेगी,कब रोना है…फाड़ देती हर उस पन्ने को जिसने मुझे रुलाया…लिख देती उन यादों को जिसने मुझे हसाया…समय से नजरे चुरा कर पीछे चली जाती…फिर से बिखरे सपनों को सजाती…काश, ज़िन्दगी सचमुच किताब …

Hindi Poem – Kash Zindagi Sachmuch Kitab Hoti Read More »

Hindi Poem – Christmas

क्रिसमस ठंडी ठंडी बर्फीली रातो मेंमन में नया उत्साह नई उमंग लिएकोई मौजे में,कोई खिड़कियों तो कोई सिरहाने मेंहर कोई लगा रहता है, ख्वाहिश मांगने मेंकोई दूर से झिंगल बजातेझोली भर खुशियां लता हैहिरण की सवारी करता,लाल टोपी,लाल कुर्ता, सफेद दाढ़ीलगते जैसे दादा जीहम सब उन्हें प्यार से सांता बुलातेसबकी ख्वाहिशों को पूरा कर देतेजीसस …

Hindi Poem – Christmas Read More »